423 Special Friendship Day Quotes, Wishes, Images, Greetings, Shayri, Songs

Friendship day Shayari

373. जमाने से कब के गुजर गए होते,
ठोकर ना लगी होती बच गए होते,
बंधे थे बस दोस्ती के धागों में,
वरना कब के बिखर गए होते।

374. दोस्ती भी क्या गजब की चीज होती हैं,
मगर ये भी बहुत कम लोगों को नसीब होती हैं,
जो पकड़ लेते है जिंदगी में दामन इसका,
समझ लो के जन्नत उनके बिलकुल करीब होती हैं।

375. आसमान हमसे अब नाराज है,
तारों का गुस्सा बेहिसाब हैं,
वो सब हमसे जलते है क्योंकि,
चाँद से बेहतर दोस्त हमारे पास हैं।आसमान हमसे अब नाराज है,
तारों का गुस्सा बेहिसाब हैं,
वो सब हमसे जलते है क्योंकि,
चाँद से बेहतर दोस्त हमारे पास हैं।

376. तेरी दोस्ती में खुद को महफूज मानते हैं,
हम दोस्तों में तुम्हें सबसे अजीज मानते हैं,
तेरी दोस्ती के सायें में जिन्दा हैं,
हम तो तुझे खुदा का दिया हुआ ताबीज मानते हैं।

377. सबकी जिंदगी में खुशियां देने वाले,
मेरे दोस्त की जिंदगी में कभी गम ना हो,
उसको मुझसे भी अच्छा दोस्त मिले,
तभी जब दुनिया में कम ना हो।

378. कल फिर यही समा होगा,
हम में से कौन ना जाने कहा होगा,
मुरझाये फूल तो मिल जायेंगे किताबों में,
पर बिछड़े दोस्त का शायद ही कोई पता होगा।

 

friendship-day-shayri

379. दोस्ती वो नहीं होती जो जान देती है,
दोस्ती वो भी नहीं होती जो मुस्कान देती है,
असली दोस्ती वो होती है जो पानी में गिरा आंसु भी पहचान लेती है।

380. तेरी मुस्कराहट मेरी पहचान थी,
तेरी ख़ुशी मेरी साँस थी,
कुछ भी नहीं तेरे बिना मेरी जिंदगी में,
बस इतना समझ ले,
तेरी दोस्ती ही मेरी जान थी।

381. कशिश भी है एक अलग खूमार भी है,
तेरे मेरे दरमियां दोस्ती है और प्यार भी है,
कितनी खूबसूरत है जिंदगी मेरी,
प्यार से दोस्ती है और दोस्त से प्यार भी हैं।

Friendship day shayari hindi

https://www.youtube.com/watch?v=-Sr5IE7sczY

382. जिंदगी लंबी है तो बनाते रहो,
दिल मिले ना मिले हाथ मिलाते रहो।

383. ज़िन्दगी हर पल खास नहीं होती,
फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती,
मिलना हमारी तकदीर में लिखा था वरना,
इतनी प्यारी दोस्ती कभी इतेफाक नहीं होती।

384. रिश्तो की डोर कमजोर होती है,
आंखों की बातें दिल की चोर होती है,
खुदा ने जब भी पूछा दोस्ती का मतलब,
हमारे उंगली आपकी तरफ होती है।

385. होगा अफ़सोस जब हम न होंगे,
तेरी आँखों से आंसू कम न होंगे,
बहुत मिलेंगे तेरे अरमानो से खेलने वाले,
लेकिन उस वक़्त तेरी परवाह करने वाले हम न होंगे।

386. दोस्त, आपकी दोस्ती का क्या ख़िताब दे,
करते है इतना प्यार की क्या हिसाब दे,
अगर आपसे भी अच्छा फूल होता तो ला देते,
लेकिन जो खुद गुलदस्ता हो उसे क्या गुलाब दे।

387. क्यों मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त,
क्यों गम को बांट लेते हैं दोस्त,
न रिश्ता खून का न रिवाज से बंधा है,
फिर भी जिंदगी भर साथ देते हैं दोस्त।

388. आपसे मिलने की चाहत हमेशा रहेगी,
आपको भूलकर ये जिंदगी ना रहेगी,
आपसे हमारी दोस्ती तब तक रहेगी,
जब तक ये दुनिया सलामत रहेगी।