139 आकर्षक हिंदी दिवस की कवितायें, शायरियाँ, स्लोगन – Hindi Diwas Par Kavita Shayari, Quotes, Slogan


Hindi Diwas Wishes


अपनी मातृभाषा को मित्रभाषा बनाए, मात्र भाषा बनाकर मृतभाषा ना बनाए.

जब भारत करेगा हिंदी को सम्मान , तभी तो आगे बढ़ेगा हमारा हिन्दुस्तान.


हिन्दी पढ़ना और पढ़ाना हमारा कर्तव्य है. उसे हम सबको अपनाना है.

हिंदी हमारी मातृभाषा हैं, मात्र एक भाषा नहीं हैं.


जबतक आपके पास राष्ट्रभाषा नही, आपका कोई राष्ट्र भी नही.

हिन्दी हमारे देश की एकता की कड़ी है, हमे इसे आगे बढ़ाना है.


निज भाषा उन्नति अहै, सब भाषा को मूल, बिनु निज भाषा ज्ञान के, मिटै न हिय को शूल।

जिस देश को अपनी भाषा और साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता।

जो सम्मान, संस्कृति और अपनापन हिंदी बोलने से आता हैं, वह अंग्रेजी में दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता हैं।

देश के सबसे बड़े भूभाग में बोली जानेवाली हिन्दी राष्ट्रभाषा – पद की अधिकारिणी है।

हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा तो है ही, यही जनतंत्रात्मक भारत में राजभाषा भी होगी।

( Hindi Diwas Par Kavita )


हिन्दी है हमारी राष्ट्रभाषा …
हिन्दी है हमें बड़ी प्यारी…
हिन्दी की सुरीली वाणी…
हमें लगे हर पल प्यारी…

हिन्दी हमारी मातृभाषा है…
इसे हर दिन बोलें…
और हिन्दी दिवस के इस दिन पर…
सबको इसे बोलने के लिए उत्साहित करें।

हिन्दी भाषा नहीं भावों की अभिव्यक्ति है,
यह मातृभूमि पर मर मिटने की भक्ति है।

( Hindi Diwas Par Kavita )


हाथ में तुम्हारे देश की शान,
हिन्दी अपनाकर तुम बनो महान।

भारत माँ के भाल पर सजी स्वर्णिम बिंदी हूँ,
मैं भारत की बेटी आपकी अपनी हिंदी हूँ।

हिन्दी मेरा इमान है,
हिंदी मेरी पहचान है,
हिन्दी हूँ मैं वतन भी मेरा प्यारा हिंदुस्तान है।

हिन्दी से हिन्दुस्तान है,
तभी तो यह देश महान है,
निज भाषा की उन्नति के लिए अपना सब कुछ कुर्बान है।

हिंदी भाषा नहीं भावों की अभिव्यक्ति है,
यह मातृभूमि पर मर मिटने की भक्ति है।

जिसमें है मैंने ख्वाब बुने,
जिस से जुड़ी मेरी हर आशा,
जिससे मुझे पहचान मिली,
वो है मेरी हिंदी भाषा।

आज स्याही से लिख दो तुम पहचान अपनी,
हिंदी हो तुम,
हिंदी से सीखो करना प्यार।

बिछड़ जाएंगे अपने हमसे,
अगर अंग्रेजी टिक जाएगी,
मिट जाएगा वजूद हमारा,
अगर हिंदी मिट जाएगी।

( Hindi Diwas Par Kavita )